Go to : View ---> encoding ---> Unicode(UTF-8) १४ अगस्त, २००९

समस्त भारतीयों को भारत कीbharatस्वतंत्रता की तिरेसठवी वर्षगांठ पर हार्दिक शुभकामनाएं।

हिंदी पर हमला : रघु ठाकुर


पिछले आठ सॊ साल से हो रहा हॆ देवनागरी का प्रयोग


जगदीप दांगी ने बनाया राष्ट्रभाषा हिन्दी को समर्पित एक नया सरल सॉफ़्ट्वेयर


अदालत की भाषा बदलकर हिन्दी करने पर विचार

परदेस में इंटरनेट पर हिन्दी की खोज : प्रवेश सेठी

संयुक्त अरब इमारात में हिंदी : पूर्णिमा वर्मन


एक और हिंदी दिवस : आशीष गर्ग

विदेशी छात्रों के दॊरे में बही हिन्दी की बयार


बाजार के रास्ते हिन्दी की ऊंची उडान

राष्ट्रभाषा हिन्दी का टूलबार "हिन्दीगाथा" बनाया : धन्यवाद प्रगति, प्रशांत, प्रतीक


हिन्दी सेवी जगदीप सिंह दांगी राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित

छत्तीसगढ में हिन्दी साहित्य को समर्पित दो दिन : सॊ से अधिक रचनाकार सम्मानित


हिन्दी साहित्य के विकास में मिशनरियों का योगदान

अंतरराष्टीय हिंदी उत्सव में सम्मानित हुए हिंदी विद्वान

संयुक्त राष्ट्र में हिन्दी को लाने का समय : डॉ. वेदप्रकाश वैदिक


नार्वे में तीसरा विश्व हिंदी दिवस मनाया गया

हिन्दी- करवट लेती नयी चुनौतियाँ : डॉ. विनय राजाराम

भारतीय उच्चायोग, लन्दन द्वारा विश्व हिंदी दिवस पर सम्मानों की घोषणा


भारत में अंग्रेज़ी बनाम हिंदी : मार्क टली


कितनी शुध्द हॆ सरकारी काम-काज में प्रयुक्त हिंदी

हिन्दी एवं प्रवासी भारतीयों की वर्तमान पीढ़ी : तेजेन्द्र शर्मा

रेडियो के पंखों पर दुनिया घूमती हमारी हिंदी

राजभाषा को राज के चंगुल से आज़ाद कर उसे जन भाषा बनाइए : डॉ. सुधा अरोड़ा

विश्व रंग-मंच से दशकों पुराना संबंध हॆ हिंदी का

निर्बाध चल रही हॆ हिंदी रंगमंच की विश्वयात्रा


अंतरजाल से वैश्विक होते हिंदी गीत : जयप्रकाश मानस

जगदीप डांगी के हिन्दी सोफ़्टवेयर अनुवादक और शब्दकोश के विन्डोज आधारित परीक्षण संस्करण को डिजिट पत्रिका ने सी.डी. के साथ जारी किया
एक अद्वितीय प्रतिभा, जिसे मिले सिर्फ कष्ट व उपेक्षा

इंटरनेट के पृष्ठों पर राज करती हिन्दी : जयप्रकाश मानस

हिन्दी प्रसार में हाथ बंटाते रहे हॆं विदेशी विद्वान

यूरोप में १९वीं सदी में ही पांव जमा लिए थे हिन्दी ने

कोच्चि में सॊ सात पुराना हॆ हिन्दी का सफरनामा

विश्व-हिन्दी सम्मेलन विशेष: 'विश्व-हिंदी' के साथ-साथ 'विश्व-नागरी' भी चले-विनोबा भावे

विश्व-हिन्दी सम्मेलन विशेष: संसार को आजादी का संदेश दे सकती है हिंदी-इंदिरा गांधी

हिन्दी साहित्य को पंजाब का योगदान कम नहीं

आठवें विश्व हिंदी सम्मेलन के मीडिया अभियान का शुभारंभ

संयुक्त राष्ट्र में हिन्दी को लाने का अनुकूल समय

ब्लागिंग के लिये जयप्रकाश मानस को पुरस्कार

विदेशी भाषाओं से हिन्दी का हॆ सदियों पुराना सम्वन्ध

मॉस्को में हिंदी महोत्सव

खाड़ी क्षेत्र दूसरा हिन्दी सम्मेलन दुबई में आयोजित : कृष्ण बिहारी

संसार को आजादी का संदेश दे सकती है हिंदी : इंदिरा गाँधी

'विश्व-हिंदी' के साथ-साथ 'विश्व-नागरी' भी चले : विनोबा भावे

कंप्यूटर पर हिन्दी टाइप करना इतना मुश्किल नहीं

राष्ट्रपति ने हिन्दी में शुरू किया अपना अभिभाषण

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सव का सफल आयोजन

केम्ब्रिज में हिन्दी ऒर संस्कृत का पाठ्यक्रम कम होगा

नार्वे में दूसरा विश्व हिन्दी दिवस मनाया गया

हिन्दी की उपेक्षा के विरोध में पद छोडा था महादेवी ने

भारत एवं अमेरिका के अनेक नगरों के लोगों द्वारा डा बृजेन्द्र अवस्थी को अद्भुत भावपूर्ण श्रद्धान्जलि

हिन्दी में भी बहस हो सकती हॆ फिजी की संसद में

राज्यसभा में अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा का मसला उठा

हिन्दी को संयुक्त राष्ट्र की भाषा बनाने के प्रयास

इंटरनेट आधारित मीडिया अपनी स्वतंत्र पहचान बना चुका है : हिन्दी सेवी बालेन्दु शर्मा दाधीच

अमेरिका के स्कूलों में हिन्दी का पाठ्यक्रम

मध्यप्रदेश का गॊरव : जगदीप डांगी, सॉफ़्टवेयर इंजीनियर का नाम लिम्का बुक में

राष्ट्रीय ध्वज पर गर्व तो राष्ट्रभाषा पर क्यों नहीं? : संजय स्वतंत्र

राजभाषा कहलाए हिंदी मगर राज करे अंग्रेजी : यज्ञ शर्मा

चुनॊंतियों के बावजूद सुनहरा है हिंदी का भविष्य

माइक्रोसॉफ्ट का पुरस्कार बालेन्दु दाधीच को

दूसरी भाषाओं के साथ हिन्दी का तालमेल बनाया जाये : कलाम

एक तिहाई फ्रांसीसी नहीं बोल पाते हैं अंग्रेजी

वेबसाइट हिंदी में है तो डोमेन नेम अंग्रेजी में क्यों ?

अमेरिका में अंग्रेजी भाषा के दर्जे पर उठे विरोध के स्वर

अंतरराष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन में पूर्ण सहयोग देंगे : शर्मा

गांधीजी ने डांटा था-अपनी मातृभाषा में नहीं लिखते ?

विदेशों में हिन्दी का बढ़ता प्रभाव : राकेश शर्मा निशीथ

ब्रिटेन में हिंदी के लिए संघर्ष की दास्तां : कैलाश बुधवार

खाडी के देशों में हिंदी का विकास : पूर्णिमा वर्मन

हिन्दी के प्रसार में टेक्नॉलॉजी का प्रयोग करें : पाटिल

हिन्दी के विकास के लिए जनांदोलन चले : मुलायम

हिंदी के नाम पर कब तक मनेगा पाखंड का पखवाड़ा

राष्ट्रभाषा हिन्दी का प्रयोग बढ़ाया जायेगा : शिवराज

अगला विश्व हिन्दी सम्मेलन वर्ष २००७ में न्यूयार्क में होगा

अमेरिकी सीखेंगे हिंदी : खर्च होंगे २२५०० करोड़ रु.

ओमान कवि सम्मेलन रिपोर्ट : हिन्दी का एक लघु दीप - ओमान

हिन्दी सेवियों के बीच फ़िजी में बिताए यादगार दिन

टोक्यो, जापान में अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन संपन्न

कनाडा में संस्कृत-सम्मेलन का आयोजन

अनुवाद हमें राष्ट्रीय ही नहीं,अन्तर्राष्ट्रीय भी बनाता है : डा० शिबन कृष्ण रैणा

माइक्रोसॉफ्ट की वेबसाइट पर जगदीप डांगी का इंटरव्यू

विज्ञान सम्बन्धी शोध-कार्य स्वदेशी भाषाओं में छपें

होशंगाबाद की सरकारी ई लायब्रेरी के जरिए दर्जनों विदेशी सीख रहे हैं हिंदी की बारीकियां

परदेसी कंठ से फ़ूटकर निहाल हुई हिन्दी

राष्ट्रपति डॉ.कलाम ने ऐतिहासिक संबोधन की शुरूआत हिंदी भाषा में की

अमेरिका में हिंदी, प्रयास जारी हैं : श्री देवेन्द्र सिंह

हिंदी विश्व की दस सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में

सिंगापुर में हिंदी का क्रेज

राष्ट्रभाषा प्रेमी अभियंता जगदीप डांगी ने कम्प्यूटर को हिन्दी सिखाने के लिए बनाया ''भाषा सेतु''

कम्प्यूटर के सभी प्रयोगों को हिन्दी में किया जा सकेगा : श्री सीठा

परदेसी भाषा की गुलामी : महात्मा गांधी

हिन्दी जानने वाले दुनिया में सबसे ज्यादा : नौटियाल

वैश्विक स्तर पर बढ़ते हिन्दी के कदम : डॉ. अमरसिंह वधान

शासन शिक्षण भारतीय भाषा में हो : स्वामी रामदेव

पोस्टकार्ड भेजकर सिखा रहे हैं हिन्दी

अंतरर्राष्ट्रीय मानक कुंजी पटल की आवश्यकता

सिर्फ़ सितंबर में क्यों जागता है हिन्दी प्रेम? : अशोक मनवानी

हिन्दी को 'खास' नहीं 'आम' तक पहुंचाना चाहते थे नेहरू : विनोद द. मुले

E-mail : anurodh55@yahoo.com

हमारा उद्देश्य राष्ट्रभाषा हिन्दी एवं भारतीय भाषाओं की रक्षा एवं देवनागनरी लिपि एवं अन्य भारतीय लिपियों की रक्षा करना है। जरा विचार करें जब भारतीय भाषाएं एवं लिपियां ही नहीं रहेंगी तो इन भाषाओं में लिखे गये साहित्य को कौन पढ़ेगा ? भाषाओं का सम्बन्ध सीधे संस्कृति से जुड़ा होने के कारण जब भाषाएं ही नहीं रहेंगी तो संस्कृति भी धीरे-धीरे विलुप्त हाती जाएगी। अत: भाषा एवं संस्कृति के संरक्षण में आप अपना योगदान किस प्रकार कर सकते हैं, कृपया ई-मेल द्वारा सूचित करें ताकि इनका प्रकाशन इस जाल-स्थल पर किया जा सके।
विश्व जाल पत्रिका अनुरोध भारतीय भाषाओं के प्रतिष्ठापन के लिए समर्पित समस्त संस्थाओं को एकमंच पर लाने हेतु प्रयासरत है। इस विश्व-जाल पत्रिका का प्रकाशन एवं संपादन अवैतनिक, अव्यावसायिक एवं मानसेवी होकर समस्त हिन्दी प्रेमियों को समर्पित है।
इस विश्च-जाल स्थल को अन्तिम बार १४ अगस्त, २००९ कॊ अद्यतन किया गया ।